Get our post in your mailbox

  • महान सपने देखने वालों के महान सपने हमेशा पूरे होते हैं.
    - अब्दुल कलाम
  • इंसान को कठिनाइयों की आवश्यकता होती है, क्योंकि सफलता का आनंद उठाने कि लिए ये ज़रूरी हैं.
     - अब्दुल कलाम

  • सभी प्रचार लोकप्रिय होने चाहिए और इन्हें  जिन तक पहुचाना है उनमे से सबसे कम बुद्धिमान व्यक्ति के भी समझ में आने चाहियें .
     - अडोल्फ़ हिटलर


  • हजारों खोखले शब्दों से अच्छा वह एक शब्द है जो शांति लाये.
     - भगवान गौतम बुद्ध
  • आपके पास जो कुछ भी है  है उसे बढ़ा-चढ़ा कर मत बताइए, और ना ही दूसरों से इर्श्या कीजिये. जो दूसरों से इर्श्या करता है उसे मन की शांति नहीं मिलती.
     - भगवानगौतम बुद्ध

  • चाहे आप जितने पवित्र शब्द पढ़ लें या बोल लें, वो आपका क्या भला करेंगे जब तक आप उन्हें उपयोग में नहीं लाते?
     - भगवानगौतम बुद्ध

  • सभी मनुष्य अपने स्वयं के दोष की वजह से दुखी होते हैं , और वे खुद अपनी गलती सुधार कर प्रसन्न हो सकते हैं .
     - भगवान् महावीर
  • अहिंसा सबसे बड़ा धर्म है .
     - भगवान् महावीर
  • शांति की शुरुआत मुस्कराहट से होती है.
     - मदर टेरेसा

  • यदि आप किसी व्यक्ति से उस भाषा में बात करें जो वो समझता है , तो बात उसके सर में जाती है , यदि आप उससे उसकी भाषा में बात करते हैं, तो बात उसके दिल तक जाती है.
     - नेल्सन मंडेला
  • शिक्षा सबसे शशक्त हथियार है जिससे दुनिया को बदला जा सकता है.
     - नेल्सन मंडेला
  • अच्छे कर्म स्वयं को शक्ति देते हैं और दूसरों को अच्छे कर्म करने की प्रेरणा देते हैं.
     - प्लेटो

  • अभ्यास ही सबकुछ है।
     - पेले
  • किसी बच्चे की शिक्षा अपने ज्ञान तक सीमित मत रखिये, क्योंकि वह किसी और समय में पैदा हुआ है.
     - रबिन्द्रनाथ टैगोर
  • मैं सोया और स्वप्न देखा कि जीवन आनंद है. मैं जागा और देखा कि जीवन सेवा है. मैंने सेवा की और पाया कि सेवा आनंद है.
     - रबिन्द्रनाथ टैगोर

  • हम ये प्रार्थना ना करें कि हमारे ऊपर खतरे न आयें, बल्कि ये करें कि हम उनका सामना करने में निडर रहे.
     - रबिन्द्रनाथ टैगोर


THE EIGHTH WONDER TO BE …..‘THE SHIVAPURAM’ 
(Project Conceived and Presented by CA A. K. Jain)




LORD SHIVA IN CENTER OF 21 CIRCLES OF SHIVAPURAM

‘THE SHIVAPURAM’

For centuries “Taj Mahal” is India’s exclusive source of pride and joy. It’s magnificent architecture has mesmerized people across the globe. We too have presented this tombstone to the world’s who’s who to seek their approbation. It is really commendable, that the Mughal Emperor Shahjahan envisioned and accomplished this epic structure without the accessibility of modern technology.

TAJ is just one of the example of exemplary and courageous vision and creativity. The first Chinese King Qin Shihuang  also put up ‘The Great Wall’ in BC 220–206, which can be seen from moon. The Italians built Colosseum in 70–80 AD. The Mexicans built Chichen Itza in 600 AD. From time to time, many other iconic structures have come up around the world and each one of these creation, glorifies some faith or community. In India, Mughal dynasty conceived and built several gigantic and laudable structures of eminence and magnificence. 

Although, India is pre-dominantly a Hindu state, so far little is done to represent the origin and transformation of Hindu cult. Taking inspiration from others, something must be done to showcase Hindu Culture, Faith and Philosophy. An institution, which can represent “Hinduism” in entirety, is the need of the time. Such an institution will not only be structurally iconic, but shall also help to promote and conserve Hindu ethnicity for centuries to come. Besides, such an institution can also offer invaluable community services.

Any reference to Hinduism is incomplete without the mention of the supreme and most revered Hindu Divinity, “Lord Shiva”. A multifaceted institution dedicated to ‘Lord Shiva’ as central theme can very well present our legendary and mythological heritage and religious faith. Therefore, a “Hindu Temple complex” in the centre (e.g. Nagpur Region) of the country with a exhilarating 621 feet tall standing statue of ‘Lord Shiva’ can plug the void. So far the claim for the highest statue in the world goes to 128 M (420 feet) tall standing Buddha statue in Spring Temple, China.

The proposed temple complex can be built on eleven hundred acres (4x4 km) of square piece of land. The proposed temple complex will be an integrated cluster of most modern multi-layered vastu compliant structures, divided in twenty one independent circles. The temple complex along with 621 Feet high statue will also house over 400 temples of all other important Hindu Deities, Indological Research Centre, Multifaith Library, Education Centres, Yoga Centres, Astrology and Astronomy Centre, Several Seminar and Conference Rooms varying capacities , Audio Visual Theatre , Home for Children, House for Differently Abled  Persons, Old Age Home for 25000 persons, Dharamshalas, Guest Houses, Rest Houses, Hotels, Restaurants, Banks, Post Office, Health Facilities, Shopping Centre, Multiple Gardens, Herbal Plantations, Vegetable Farms, Fruit Gardens, Dairy Facilities, Staff Residences and space for all other services generally required.

The Temple Complex will be interconnected through multi-layered circular water canals with 2,000 moving gondolas. This will give the entire complex “VENICE” like appearance.

                                                       21 Circle Application


Circle
Application
Wide (Feet.)
1st
Lord Shiva Statue in Centre
1150
2nd
Circular Garden - Lawn and Seasonal Flower Plants
200
3rd
First Circular Road (3.43km)
150
4th
First Circular Water Lake
150
5th
Second Circular Road
200
6th
*Circle of 401 Temples
750
7th
Third Circular Road
100
8th
Circular Midsize Fruit Trees Farm
200
9th
Fourth Circular Road (6.24km)
100
10th
Second Circular Water Lake
150
11th
Fifth Circular Road
200
12th
**Circle of Utility and Research Institutions
750
13th
Sixth Circular Road
100
14th
Circular Seasonal Vegetable Farm
200
15th
Seventh Circular Road (9.36km)
100
16th
Third Circular Water Lake
150
17th
Eighth Circular Road
200
18th
*** Social and Community Commitments Centres
650
19th
Ninth Circular Road
100
20th
Forest Area with Long Life Trees e.g. Mangoes
200
21st
Tenth Circular Road (13.48km)
200

*401 Temples in Circle - This circle will provide space for four hundred one spacious and archaeologically spectacular Hindu Temples of all the important Hindu Deities.

** Circle of Utility and Research Institutions – This circle will provide space for several Seminar and Conference Halls of different capacities, Exhibition Buildings, Multiple Libraries, Indological Institutes, Educational Institutions, Astronomy and Astrology Centres and Theological Research Centre, Audio Visual Theatre, Open and Closed Theatres, Shopping Centres, Restaurants and Hotels.

*** Social and Community Commitments Centres – This circle will accommodate institutions like, Home for Children, House for Differently Abled  Persons, Old Age Home for 25000 persons, Guest Houses, Rest Houses, Hotels, Restaurants , Banks, Post Office, Health Facilities, Shopping Centre, Herbal Plantations, Vegetable Farms, Fruit Gardens, Dairy Facilities, Staff Residences and space all other services generally required.

The project will be spread over an area of eleven hundred acres of land. It is expected that, in Nagpur region, suitable land can be easily procured at an average cost of about six to seven lakh rupees an acre. According to rough estimates the 621 feet statue may cost about Rs. 250 crore. The total project cost will be approximately eleven hundred crore.

The amount required for the project can be collected initially through donations from corporate, individual and existing temples. Thereafter further funds can be raised through offering space and sponsorships etc. Bridging loans from banks and business houses can also help temporarily. For financing community sharing and participation principles will be stressed. Development of utilities and service sections can be planned on BOT / Auction basis. Brief details of the fund sourcing and application are as follow.
The project can itself generate substantial revenue through temple offerings, rentals, entry tickets etc. to make it financially self sufficient. It may also generate substantial surplus. The temple complex will be run on Charity lines.

Geographically, Nagpur is closest to the centre point of the country and can be   strategically a brilliant   choice for such a titanic project. Proximity to Nagpur offers several technical and commercial advantages. Ample land is available in this area at reasonable cost. It offers   excellent Road, Rail and Air connectivity from all corners of the country. Availability of adequate water resources is another favourable factor. Nagpur provides both skilled and unskilled labour force at competitive cost. (Nagpur is only a proposed site. This can be reconsidered if a better option is available)

Once the project is accepted and approved by core donors and the Government, it can be completed in about five years. Project in its development stage will need about five thousand unskilled labours and one thousand skilled labours. These are available in plenty in our country. Besides a team of five hundred qualified and semi qualified personnel will be needed. This includes Architects, Engineers, support staff etc.

The need for such an Institution need not be emphasised, as we all know in our hearts, what a wonderful institution this “Temple Complex” would be to project our magnificent cultural legacy. Today, we are also resource rich and have the best of technology, supporting materials and machines to envision something big like this and also make it a reality. The uniqueness of “The Only Hindu Temple Complex” in the country and a sense of belonging to the country, the society and the faith will get phenomenal footfall. Hindu festivals occurring through out the year will also ensure regular footfall as these will be the special occasions of celebration and festivities.

It is expected that, this Mega Temple Complex, “The Shivapuram” will replace the iconic, “The TAJ” on second preference. Undoubtedly, the Temple Complex will also be a strong claimant for the title of ‘The Eighth Wonder of the World’.

**Individuals, Corporate, Social or Religious Institutions, Temples and all others enthusiastic to support or team-up in the implementation process of this mega project of national importance may please contact CA A. K. Jain, “Shivapuram Project Office” 21, Skipper House, 9, Pusa Road, New Delhi – 110005, Email Address : caindia@hotmail.com, Cell: 98-100-46108,

Project Accredited and Endorsed
by
Ahimsa Foundation, New Delhi
 &
 Foundation for Social and Religious Integration, New Delhi.


“THE VENICE


STANDING BUDDHA STATUE IN SPRING TEMPLE “CHINA”
STANDING BUDDHA STATUE IN SPRING TEMPLE “CHINA”
“THE GREAT WALL OF CHAINA”
“THE GREAT WALL OF CHAINA”
THE COLOSSEUM “ITALY (ROME)”
THE COLOSSEUM “ITALY (ROME)”

EL CASTILLO (THE CHICHEN ITZA) “MEXICO”
EL CASTILLO (THE CHICHEN ITZA) “MEXICO”

Request to all Readers - Please do provide your views and feedback as this will decide the success of this iconic project. Your valuable feed back will also help us in better planning. The feedback can be given in the space given herein below. We do solicit your support in whatsoever way you feel appropriate- A. K. Jain.
कोशिश करने वालों की

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है।
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है।
आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है।
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में।
मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो।
जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम।
कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।
..............हरिवंशराय बच्चन
सूरज को नही डूबने दूंगा

अब मै सूरज को नही डूबने दूंगा
देखो मैने कंधे चौडे कर लिये हैं
मुट्ठियाँ मजबूत कर ली हैं
और ढलान पर एडियाँ जमाकर
खडा होना मैने सीख लिया है

घबराओ मत
मै क्षितिज पर जा रहा हूँ
सूरज ठीक जब पहाडी से लुढकने लगेगा
मै कंधे अडा दूंगा
देखना वह वहीं ठहरा होगा
अब मै सूरज को नही डूबने दूंगा

मैने सुना है उसके रथ मे तुम हो
तुम्हे मै उतार लाना चाहता हूं
तुम जो स्वाधीनता की प्रतिमा हो
तुम जो साहस की मुर्ति हो
तुम जो धरती का सुख हो
तुम जो कालातीत प्यार हो
तुम जो मेरी धमनी का प्रवाह हो
तुम जो मेरी चेतना का विस्तार हो
तुम्हे मै उस रथ से उतार लाना चाहता हूं

रथ के घोडे
आग उगलते रहें
अब पहिये टस से मस नही होंगे
मैने अपने कंधे चौडे कर लिये है।

कौन रोकेगा तुम्हें
मैने धरती बडी कर ली है
अन्न की सुनहरी बालियों से
मै तुम्हे सजाऊँगा
मैने सीना खोल लिया है
प्यार के गीतो मे मै तुम्हे गाऊंगा
मैने दृष्टि बडी कर ली है
हर आखों मे तुम्हे सपनों सा फहराऊंगा

सूरज जायेगा भी तो कहाँ
उसे यहीं रहना होगा
यहीं हमारी सांसों मे
हमारी रगों मे
हमारे संकल्पों मे
हमारे रतजगो मे
तुम उदास मत होओ
अब मै किसी भी सूरज को
नही डूबने दूंगा

..............सर्वेश्वरदयाल सक्सेना
नर हो न निराश करो मन को

नर हो न निराश करो मन को
कुछ काम करो कुछ काम करो
जग में रहके निज नाम करो
यह जन्म हुआ किस अर्थ अहो
समझो जिसमें यह व्यर्थ न हो
कुछ तो उपयुक्त करो तन को
नर हो न निराश करो मन को ।

संभलो कि सुयोग न जाए चला
कब व्यर्थ हुआ सदुपाय भला
समझो जग को न निरा सपना
पथ आप प्रशस्त करो अपना
अखिलेश्वर है अवलम्बन को
नर हो न निराश करो मन को ।

जब प्राप्त तुम्हें सब तत्त्व यहाँ
फिर जा सकता वह सत्त्व कहाँ
तुम स्वत्त्व सुधा रस पान करो
उठके अमरत्व विधान करो
दवरूप रहो भव कानन को
नर हो न निराश करो मन को ।

निज गौरव का नित ज्ञान रहे
हम भी कुछ हैं यह ध्यान रहे
सब जाय अभी पर मान रहे
मरणोत्तर गुंजित गान रहे
कुछ हो न तजो निज साधन को
नर हो न निराश करो मन को ।
..............मैथिलीशरण गुप्त
एक बूँद

ज्यों निकल कर बादलों की गोद से।
थी अभी एक बूँद कुछ आगे बढ़ी।।
सोचने फिर फिर यही जी में लगी।
आह क्यों घर छोड़कर मैं यों बढ़ी।।

दैव मेरे भाग्य में क्या है बढ़ा।
में बचूँगी या मिलूँगी धूल में।।
या जलूँगी गिर अंगारे पर किसी।
चू पडूँगी या कमल के फूल में।।

बह गयी उस काल एक ऐसी हवा।
वह समुन्दर ओर आई अनमनी।।
एक सुन्दर सीप का मुँह था खुला।
वह उसी में जा पड़ी मोती बनी।।

लोग यों ही है झिझकते, सोचते।
जबकि उनको छोड़ना पड़ता है घर।।
किन्तु घर का छोड़ना अक्सर उन्हें।
बूँद लौं कुछ और ही देता है कर।।

..............अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’

जीवन की आपाधापी में

जीवन की आपाधापी में कब वक़्त मिला
कुछ देर कहीं पर बैठ कभी यह सोच सकूँ
जो किया, कहा, माना उसमें क्या बुरा भला।

जिस दिन मेरी चेतना जगी मैंने देखा
मैं खड़ा हुआ हूँ इस दुनिया के मेले में,
हर एक यहाँ पर एक भुलाने में भूला
हर एक लगा है अपनी अपनी दे-ले में
कुछ देर रहा हक्का-बक्का, भौचक्का-सा,
आ गया कहाँ, क्या करूँ यहाँ, जाऊँ किस जा?
फिर एक तरफ से आया ही तो धक्का-सा
मैंने भी बहना शुरू किया उस रेले में,
क्या बाहर की ठेला-पेली ही कुछ कम थी,
जो भीतर भी भावों का ऊहापोह मचा,
जो किया, उसी को करने की मजबूरी थी,
जो कहा, वही मन के अंदर से उबल चला,
जीवन की आपाधापी में कब वक़्त मिला
कुछ देर कहीं पर बैठ कभी यह सोच सकूँ
जो किया, कहा, माना उसमें क्या बुरा भला।

मेला जितना भड़कीला रंग-रंगीला था,
मानस के अन्दर उतनी ही कमज़ोरी थी,
जितना ज़्यादा संचित करने की ख़्वाहिश थी,
उतनी ही छोटी अपने कर की झोरी थी,
जितनी ही बिरमे रहने की थी अभिलाषा,
उतना ही रेले तेज ढकेले जाते थे,
क्रय-विक्रय तो ठण्ढे दिल से हो सकता है,
यह तो भागा-भागी की छीना-छोरी थी;
अब मुझसे पूछा जाता है क्या बतलाऊँ
क्या मान अकिंचन बिखराता पथ पर आया,
वह कौन रतन अनमोल मिला ऐसा मुझको,
जिस पर अपना मन प्राण निछावर कर आया,
यह थी तकदीरी बात मुझे गुण दोष न दो
जिसको समझा था सोना, वह मिट्टी निकली,
जिसको समझा था आँसू, वह मोती निकला।
जीवन की आपाधापी में कब वक़्त मिला
कुछ देर कहीं पर बैठ कभी यह सोच सकूँ
जो किया, कहा, माना उसमें क्या बुरा भला।

मैं कितना ही भूलूँ, भटकूँ या भरमाऊँ,
है एक कहीं मंज़िल जो मुझे बुलाती है,
कितने ही मेरे पाँव पड़े ऊँचे-नीचे,
प्रतिपल वह मेरे पास चली ही आती है,
मुझ पर विधि का आभार बहुत-सी बातों का।
पर मैं कृतज्ञ उसका इस पर सबसे ज़्यादा -
नभ ओले बरसाए, धरती शोले उगले,
अनवरत समय की चक्की चलती जाती है,
मैं जहाँ खड़ा था कल उस थल पर आज नहीं,
कल इसी जगह पर पाना मुझको मुश्किल है,
ले मापदंड जिसको परिवर्तित कर देतीं
केवल छूकर ही देश-काल की सीमाएँ
जग दे मुझपर फैसला उसे जैसा भाए
लेकिन मैं तो बेरोक सफ़र में जीवन के
इस एक और पहलू से होकर निकल चला।
जीवन की आपाधापी में कब वक़्त मिला
कुछ देर कहीं पर बैठ कभी यह सोच सकूँ
जो किया, कहा, माना उसमें क्या बुरा भला। 
..............हरिवंश राय बच्चन
अँधेरे का दीपक

 है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

कल्पना के हाथ से कमनीय जो मंदिर बना था ,
भावना के हाथ से जिसमें वितानों को तना था,
स्वप्न ने अपने करों से था जिसे रुचि से सँवारा,
स्वर्ग के दुष्प्राप्य रंगों से, रसों से जो सना था,
ढह गया वह तो जुटाकर ईंट, पत्थर कंकड़ों को
एक अपनी शांति की कुटिया बनाना कब मना है?
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

बादलों के अश्रु से धोया गया नभनील नीलम
का बनाया था गया मधुपात्र मनमोहक, मनोरम,
प्रथम उशा की किरण की लालिमासी लाल मदिरा
थी उसी में चमचमाती नव घनों में चंचला सम,
वह अगर टूटा मिलाकर हाथ की दोनो हथेली,
एक निर्मल स्रोत से तृष्णा बुझाना कब मना है?
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

क्या घड़ी थी एक भी चिंता नहीं थी पास आई,
कालिमा तो दूर, छाया भी पलक पर थी न छाई,
आँख से मस्ती झपकती, बातसे मस्ती टपकती,
थी हँसी ऐसी जिसे सुन बादलों ने शर्म खाई,
वह गई तो ले गई उल्लास के आधार माना,
पर अथिरता पर समय की मुसकुराना कब मना है?
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

हाय, वे उन्माद के झोंके कि जिसमें राग जागा,
वैभवों से फेर आँखें गान का वरदान माँगा,
एक अंतर से ध्वनित हो दूसरे में जो निरन्तर,
भर दिया अंबरअवनि को मत्तता के गीत गागा,
अन्त उनका हो गया तो मन बहलने के लिये ही,
ले अधूरी पंक्ति कोई गुनगुनाना कब मना है?
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

हाय वे साथी कि चुम्बक लौहसे जो पास आए,
पास क्या आए, हृदय के बीच ही गोया समाए,
दिन कटे ऐसे कि कोई तार वीणा के मिलाकर
एक मीठा और प्यारा ज़िन्दगी का गीत गाए,
वे गए तो सोचकर यह लौटने वाले नहीं वे,
खोज मन का मीत कोई लौ लगाना कब मना है?
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

क्या हवाएँ थीं कि उजड़ा प्यार का वह आशियाना,
कुछ न आया काम तेरा शोर करना, गुल मचाना,
नाश की उन शक्तियों के साथ चलता ज़ोर किसका,
किन्तु ऐ निर्माण के प्रतिनिधि, तुझे होगा बताना,
जो बसे हैं वे उजड़ते हैं प्रकृति के जड़ नियम से,
पर किसी उजड़े हुए को फिर बसाना कब मना है?
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

..............हरिवंश राय बच्चन

This blog is Created by CA Anil Kumar Jain.